इस पंक्ति का सप्रषंग व्याख्या कीजिए?एक भरोसे एक बल एक आस विश्वास एक राम घनश्याम हित चातक तुलसीदास​

Question

इस पंक्ति का सप्रषंग व्याख्या कीजिए?एक भरोसे एक बल एक आस विश्वास एक राम घनश्याम हित चातक तुलसीदास​

Adelaide 1 year 2021-08-27T10:24:45+00:00 0

Answers ( )

    0
    2021-08-27T10:26:04+00:00

    Answer:

    तुलसीदास जी कहते हैं कि मुझे अपने इष्ट श्रीराम पर पूरा भरोसा है। एक ही बल, एक ही आशा और एक उन्हीं पर अटूट विश्वास है; ठीक वैसे ही जैसे कि भगवान श्री रघुनाथजी यदि स्वाति नक्षत्र का जल है, तो तुलसीदास चातक पक्षी की तरह है।

    0
    2021-08-27T10:26:31+00:00

    Answer:

    प्रस्तुत दोहे में तुलसीदासजी कहते हैं कि केवल एक ही भरोसा है, एक ही बल है, एक ही आशा है । और एक ही विश्वास है। एक रामरूपी श्यामघन ( मेघ ) के लिए ही यह तुलसीदास चातक बना हुआ है।।

Leave an answer

Browse

12:4+4*3-6:3 = ? ( )