हर गली, सड़क, चौराहे पर
भाषण की गंगा बहती है।
हर समझदार नर-नारी के
कानों में कहती रहती है-
मत पुण्य करो, मत पा

Question

हर गली, सड़क, चौराहे पर
भाषण की गंगा बहती है।
हर समझदार नर-नारी के
कानों में कहती रहती है-
मत पुण्य करो, मत पाप करो,
मत राम-नाम का जाप करो,
कम से कम दिन में एक बार-
थई, ध्याषण दो, धई, ध्याषण दो। Bharath​

Keelin 1 year 2021-08-19T18:35:38+00:00 0

Answers ( )

    0
    2021-08-19T18:36:46+00:00

    Answer:

    nice

    poem op amit bolata

Leave an answer

Browse

12:4+4*3-6:3 = ? ( )